याराना जेल का और घर के भेदी की साजिश - Pahadvasi

याराना जेल का और घर के भेदी की साजिश

 

याराना जेल का और घर के भेदी की साजिश

-दून पुलिस ने अपराधियों के फुलप्रूफ प्लान व पूर्ण तैयारी के साथ की गयी लूट की घटना का किया पर्दाफाश
-दिल्ली के कुख्यात गैंग के मास्टर मांइड सहित 4 शातिर अभियुक्तों को दून पुलिस ने किया गिरफ्तार

देहरादून। दून पुलिस ने अपराधियों के फुलप्रूफ प्लान व पूर्ण तैयारी के साथ की गयी लूट की घटना का पर्दाफाश किया है। घटना में शामिल दिल्ली के कुख्यात गैंग के मास्टर मांइड सहित 4 शातिर कुख्यात अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। अभियुक्तगणों द्वारा तिहाड़ जेल दिल्ली में डकैती की योजना बनाई गई थी। पीड़ित परिवार की कन्स्ट्रक्शन साइट पर कार्य करने वाला पूर्व कर्मचारी ही घटना का सूत्रधार था।  हिसाब किताब में हेरा-फेरी करने पर पीडित परिवार को सबक सिखाने की मंशा से करोड़ों की डकैती करने के उद्देश्य से घटना को अंजाम दिया था।

गिरोह का मुख्य सरगना व मास्टर माइंड शातिर अभियुक्त राजेश बंसल उर्फ मदन है, जिस पर हत्या के 02 अभियोगों सहित करोडों रूपये की डकैती व अन्य गंभीर अपराधों में कई अभियोग दर्ज हैं। गिरोह के अन्य सदस्यों द्वारा भी दिल्ली तथा आस-पास के क्षेत्रों में 10 किलो से अधिक सोेने की डकैती सहित कई अन्य गंभीर अभियोग पंजीकृत हैं।

थाना डालनवाला पर शिकायतकर्ता प्रणव सोईन पुत्र संजय सोईन नि0-।-9, चन्द्रलोक कालोनी, डालनवाला ने थाना डालनवाला पर एक लिखित प्रार्थना पत्र दिया कि उनकी अनुपस्थिति में तीन अज्ञात अभियुक्तगण द्वारा उनके घर में घुसकर उनकी माताजी सुमिति सोईन व घर के नौकरानी मीता के हाथ बाँधकर घर के लॉकर में रखी नकदी व दो मोबाइल फोन को लूट कर ले गये। प्राप्त प्रार्थना पत्र के आधार पर थाना डालनवाला पर तत्काल मु0अ0सं0- 113ध्2024 धारा- 392 भादवि बनाम अज्ञात पंजीकृत किया गया। घटना की गम्भीरता के दृष्टिगत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा घटना के अनावरण, अभियुक्तों की गिरफ्तारी तथा माल बरामगदगी हेतु पुलिस टीमों का गठन कर आवश्यक निर्देश दिये गये। निर्गत निर्देशों के क्रम में गठित टीम द्वारा घटना स्थल का निरीक्षण कर साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की गयी, साथ ही आस-पास के लोगों से घटना के सम्बन्ध में जानकारियां एकत्रित करते हुए घटना स्थल के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेजों को चैक किया गया। इसके साथ ही पूर्व में इस प्रकार की घटनाओं में जेल गये तथा जेल से छूटे अपराधियों की वर्तमान स्थिती का भौतिक सत्यापन करते हुए स्थानीय मुखबिर तंत्र को भी सक्रिय किया गया। सीसीटीवी फुटेज के बारीकी से अवलोकन के दौरान पुलिस टीम को घटनास्थल व घटनास्थल के आस-पास 04 संदिग्ध अभियुक्त फुटेज में दिखायी दिये। संदिग्धता के आधार पर सीसीटीवी फुटेज में दिखे व्यक्तियों के हुलिये को सोशल मीडिया, नेशनल पुलिस ग्रुप व अन्य राज्यों की पुलिस से साझा किया तो पुलिस को इस तरह के गैंग के दिल्ली में सक्रिय होने के सम्बन्ध में पुख्ता जानकारी मिली साथ ही फुटेज में दिखने वाले उक्त व्यक्तियांे दिल्ली प्रशान्त विहार क्षेत्र के आस-पास रहने की सूचना मिली।

प्राप्त सूचना के आधार पर सर्विलांस टीम को सक्रिय करते हुए उ0नि0 प्रवीण सिंह पुण्डीर व एसओजी देहरादून के संयुक्त नेतृत्व में एक टीम दिल्ली रवाना की गयी। पुलिस टीम द्वारा मुखबिर की सूचना पर दिल्ली से 02 अभियुक्तों राजेश कुमार बंसल उर्फ मदन पुत्र धनी राम निवासी-आई-192, गली नं0 04, शुक्र बाजार, विजय विहार फेस-1 रोहिणी नई दिल्ली व अभियुक्त रिंकू कुमार उर्फ हरीश पुत्र स्व0 ईश्वरी प्रसाद निवासी- । 417 गली नं0 7ध्2 सोनिया विहार खजूरी नई दिल्ली को लूटे गये मोबाइल फोन व डकैती में लूटी गयी नकदी व घटना में प्रयुक्त वाहन एक्सेंट कार सं0-डीएल-08-सीएस-7462 के साथ गिरफ्तार किया गया।

पूछताछ का विवरणरू  पूछताछ के दौरान अभियुक्त राजेश कुमार बंसल उर्फ मदन ने बताया कि तिहाड जेल बन्द होने के दौरान मैने रिंकू, प्रेम व मोहित के साथ दिसम्बर 2023 में देहरादून में डकैती की योजना बनाई गई। जहां से जमानत पर छुटने के बाद हमारी मुलाकात सरधना मेरठ निवासी सागर सोम से हुई जिसने हमें बताया कि वो चन्द्रलोक कालोनी देहरादून निवासी एक महिला सुमित सोईन जो काफी पैसे वाली है की कन्स्ट्रक्शन साइट पर काम करता है, जिसके पति का कुछ समय पूर्व देहांत हो चुका है तथा महिला अपने बेटे के साथ घर पर अकेली रहती है। सागर पूर्व में उक्त महिला की कन्स्ट्रक्शन साइट पर काम करता था, जिसमें काम पूरा होने के उपरान्त उक्त महिला द्वारा सागर के साथ हिसाब किताब के दौरान 02 लाख रूपयों की हेराफेरी की गई जिस कारण वो उसे सबक सिखाना चाहता है। इस योजना में अभियुक्तगण द्वारा सुमित सोईन के नौकर संजीव को भी लालच देकर अपने साथ मिला लिया गया।  योजना के अनुसार हमारे द्वारा जनवरी 2024 में देहरादून आकर चन्द्रलोक कालोनी स्थित उक्त महिला के आवास की रैकी की गई तथा अप्रैल 2024 में हमने उक्त घर में डकैती की योजना बनाई परन्तु उस समय हम योजना में असफल हो गये। इसके उपरान्त 24-05-24 को हमारे द्वारा पुन गांधी पार्क देहरादून में योजना को अंजाम देने हेतु एकत्रित हुए तथा घर के नौकर संजीव का फोन आने के उपरान्त मदन अपने अन्य साथियों प्रेम, रिंकू तथा एक अन्य साथी के साथ साईलोक कालोनी स्थित उक्त चिन्हित आवास में घुसे।

प्रेम घर के बाहर खडे होकर निगरानी करने लगा। शेष तीनों अभियुक्तगण द्वारा घर पर अकेली महिला और नौकरानी को हथियारों का भय दिखाकर बंधक बना लिया और घर में रखी नकदी व मोबाइल लूट लिये। आसपास लोग इकट्टा होने के कारण आनन-फानन में चारों बदमाश ऑटो ई-रिक्शा से मौके से फरार हो गये थे। उपरोक्त दोनों अभियुक्तगण रिंकू व राजेश की गिरफ्तारी के पश्चात मुकदमे में कुल सात लोगों की संलिप्तता पाये जाने पर मुकदमा उपरोक्त को धारा 395 भादवि में तरमीम किया गया तथा अभियुक्तों को सिम कार्ड उपलब्ध कराने वाले तीसरे अभियुक्त मोहित गंगवार को सैलाकुई स्थित उसके फ्लैट से गिरफ्तार किया गया जिसके कब्जे से अभियुक्त रिंकू और राजेश के तमंचे बरामद किये गये जिस पर अभियुक्तगण के विरुद्ध मुकदमा उपरोक्त में धारा 3ध्25 आर्म्स एक्ट की बढ़ोत्तरी की गयी। डकैती की घटना में संलिप्त होने के कारण घर के नौकर संजीव को भी पुलिस टीम द्वारा दबिश देकर देहरादून से गिरफ्तार किया गया।